Vodafone Idea Share को लेकर आई बहुत बड़ी खबर, शेयर पर हो सकता है सीधा असर

Vodafone Idea कंपनी किसी न किसी कारण से स्टॉक मार्केट में लगातार चर्चा का विषय बनी ही जाते हैं, हाल में ही टेलीफोन डिपार्टमेंट ने Disinvestment Ministry रिपोर्ट भेजी है, जिसमें बताया गया है कि वोडाफोन आइडिया कंपनी के हिस्सेदारी को लेकर चर्चा की गई है। इसमें बताया गया है आने वाले समय में वोडाफोन आइडिया कंपनी के हिस्सेदारी में 40% तक का इंक्रीमेंट हो सकता है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
🔥 WhatsApp Group👉यहाँ क्लिक करें
🔥 WhatsApp Channel👉 यहां क्लिक करें
🔥 Teligram Group👉 यहां क्लिक करें

Table of Contents

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Vodafone Idea Big News

पिछले कुछ वर्षों से Vodafone Idea कंपनी का स्टॉक प्राइस मार्केट में लगातार नीचे गिरता जा रहा है। और इस कंपनी के स्टॉक में इन्वेस्टर को बहुत ही ज्यादा निराश किया है, क्योंकि कंपनी लगातार कर्ज में डूबी हुई है। इस रिपोर्ट में कंपनी की फ्यूचर वैल्यूएशन के बारे में भी बात की गई है। भविष्य में इस कंपनी के स्टॉक की वैल्यूएशन बढ़ती है तो कंपनी का स्टॉक भी बढ़ सकता है। अगर हिस्सेदारी को एक अच्छे प्रॉफिटेबल प्राइस पर बांटा जाता है, तो इसका फायदा निवेशक को भी मिल सकता है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

हो सकता है हिस्सेदारी का बटवारा

Disinvestment Ministry के पास वोडाफोन आइडिया की हिस्सेदारी को लेकर डिसीजन लेने का निर्णय है। Vodafone Idea की हिस्सेदारी को बरकरार रखा जा सकता है या इसे डिवाइड किया जा सकता है, टेलीकॉम डिपार्टमेंट के पास वोडाफोन कंपनी की 33% की हिस्सेदारी है, और उस समय यह ₹16,000 करोड़ ब्याज के बदले खरीदी गई थी।

वोडाफोन आइडिया कंपनी के स्टॉक प्राइस में पिछले 6 महीने में 95% की बढ़ोतरी हुई है, पिछले 5 साल में Vi कंपनी की स्टॉक में 35% की गिरावट भी आई थी। कुछ साल पहले इन दोनों कंपनियों का आपस में मर्ज हुआ है, 2007 में यह कंपनी स्टॉक मार्केट में लिस्ट हुई थी, और तब कंपनी का स्टॉक प्राइस ₹51 था, आज के समय में कंपनी का स्टॉक प्राइस ₹13 पहुंच चुका है। Vi कंपनी के स्टॉक प्राइस में गिरावट के एक नहीं बल्कि बहुत सारे कारण है, कंपनी की आर्थिक स्थिति ज्यादा मजबूत नहीं है, लगातार कंपनी के कई सारे केस सुप्रीम कोर्ट में चल रहे हैं।

Vi कंपनी में प्रमोटर की 50% की हिस्सेदारी है, जबकि इसमें 45% पब्लिक की हिस्सेदारी है, 2% की फॉरेन इन्वेस्टर की हिस्सेदारी है। जबकि 1% इसमें म्युचुअल फंड वालों की भी हिस्सेदारी है। प्रमोटर की हिस्सेदारी में केवल 5% का अंतर दिखाई दे रहा है, और इसमें विदेशी इंस्टिट्यूट इतनी ज्यादा दिलचस्पी नहीं दिख रहा है। इस कंपनी के कई सारे शेयर मार्केट में गिरवी है। आने वाले समय में अगर कंपनी की हिस्सेदारी को डिवाइड किया जाता है, तो इसका सीधा प्रभाव कंपनी के स्टॉक पर पड़ेगा।

Important Notice: Money Doze पर किसी भी प्रकार की स्टॉक मार्केट से जुड़ी Paid Tip या कोई Investing Advise नहीं दी जाती है। हम सिर्फ अलग-अलग बड़े न्यूज़ वेबसाइट से जानकारी प्राप्त करके उसे और अच्छे तरीके से लोगों तक पहुंचाने का कार्य करते हैं। हमारी ओर से WhatsApp Group, Telegram या YouTube पर कोई भी लोगों को भ्रमित करने वाली सूचना नहीं प्रदान की जाती है। अच्छा हमारा उद्देश्य केवल ज्यादा से ज्यादा लोगों को जागरूक करना है।

🔥Join WhatsApp Group👉 यहां क्लिक करें
🔥Join WhatsApp Channel👉 यहां क्लिक करें
🔥Join Teligram Group👉 यहां क्लिक करें
🔥 Follow Google News👉 यहां क्लिक करें

Disclaimer: कृपया म्यूचुअल फंड और स्टॉक मार्केट में निवेश करने से पहले अपने फाइनेंशियल एडवाइजर से सलाह जरूर लें। इस आर्टिकल को इंटरनेट पर उपलब्ध डाटा के आधार पर लिखा गया है। हमारा उद्देश्य आपको किसी भी स्टॉक में निवेश करने के लिए उत्सुक करना नहीं है, हमारा काम सिर्फ आपको शेयर मार्केट में आने वाले न्यूज़ को आपको देना है। हम कोई SEBI रजिस्टर फाइनेंसियल एडवाइजर नहीं है, अगर आपको कोई भी नुकसान या मुनाफा होता है तो हम उसकी जिम्मेदार नहीं होंगे।

Important Notice: Money Doze पर किसी भी प्रकार की स्टॉक मार्केट से जुड़ी Paid Tip या कोई Investing Advise नहीं दी जाती है। हम सिर्फ अलग-अलग बड़े न्यूज़ वेबसाइट से जानकारी प्राप्त करके उसे और अच्छे तरीके से लोगों तक पहुंचाने का कार्य करते हैं। हमारी ओर से WhatsApp Group, Telegram या YouTube पर कोई भी लोगों को भ्रमित करने वाली सूचना नहीं प्रदान की जाती है। आपको होने वाले नुकसान या फायदे के लिए वेबसाइट किसी भी प्रकार से उत्तरदाई नहीं है।

Disclaimer: कृपया म्यूचुअल फंड और स्टॉक मार्केट में निवेश करने से पहले अपने फाइनेंशियल एडवाइजर से सलाह जरूर लें। इस आर्टिकल को इंटरनेट पर उपलब्ध डाटा के आधार पर लिखा गया है। हमारा उद्देश्य आपको किसी भी स्टॉक में निवेश करने के लिए उत्सुक करना नहीं है, हमारा काम सिर्फ आपको शेयर मार्केट में आने वाले न्यूज़ को आपको देना है। हम कोई SEBI रजिस्टर फाइनेंसियल एडवाइजर नहीं है, अगर आपको कोई भी नुकसान या मुनाफा होता है तो हम उसकी जिम्मेदार नहीं होंगे।